रेणू शर्मा – राजस्थान में एकमात्र महिला हार्ले राइडर बनी ।

रेणू शर्मा – राजस्थान में एकमात्र महिला हार्ले राइडर बनी ।

अनूपगढ़ वार्ड नंबर 7 आदर्श कॉलोनी में चंद्र ओझा पत्रकार संपादक अनूपगढ़ ज्योति की पुत्रवधू रेणू शर्मा को हार्ले डेविसन 1200 सीसी वाइक की राजस्थान में एकमात्र महिला हार्ले राइडर बनने का गौरव हार्ले डेविसन कंपनी ने दिया है और अब वर्तमान में राजस्थान में एकमात्र महिला हार्ले डेविसन का प्रतिनिधित्व कर रही है तथा समय-समय पर होने वाले हार्ले डेविडसन के टूर में भी अपने पति सुमित ओझा के साथ लंबी यात्राओं पर भी राइडर बनकर भाग लेती रही है। और अब स्वंय के बाइक पर राइडर के रूप में राजस्थान का प्रतिनिधित्व करेगी। आज हुई प्रेस वार्ता में रणू शर्मा ने बताया कि 1200 सीसी क्षमता वाला हार्ले डेविसन वाइक 200 किलोमीटर प्रति घंटा से भी अधिक की रफ्तार पर चल सकता है। इसको मैंने 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलाया भी है । लेकिन इतनी तेज रफ्तार में बाइक चलाना नहीं चाहिए क्योंकि सुरक्षित रफ्तार में चलाएं तो जीवन सुरक्षित रहता है । उन्होने यह भी बताया कि मेरे पति सुमित ओझा के पास 750 सीसी हार्ले डेविसन है और मैंने उनसे अधिक क्षमता वाला वाइक 1200 सौ सीसी पर राइडिंग करना बेहतर समझा है । मैं अपनी बहनों को यही संदेश देना चाहती हूं कि अगर मन में आत्मविश्वास हो तो इससे भी अधिक क्षमता का बाइक महिलाएं राइड कर सकती है। लेकिन इसमें यातायात नियमों एवं सुरक्षा का ध्यान अवश्य रखना चाहिए। बाइक में सबसे अहम हैं हेलमेट लगाना इसलिए हेलमेट लगाकर ही बाइक राइड करें ।